WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

loan waiver किसानों को सरकार ने दिया नया साल का बड़ा तोहफा, इतना कर्ज होगा माफ

loan waiver.

loan waiver : मध्य प्रदेश सरकार ने कुछ किसानों के कर्ज का ब्याज माफ करने का फैसला किया है और अब सरकार की ओर से उनके लोन का ब्याज दिया जाएगा. इसके लिए किसानों को 2000 करोड़ रुपये की मदद दी जाएगी.

मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों भाइयों को बड़ी राहत दी है. मध्य प्रदेश सरकार ने हाल ही में एक प्रस्ताव को मंजूरी दी है, जिसके जरिए उन किसानों को फायदा मिलेगा, जो अपना कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं. अपना कर्ज नहीं चुका पा रहे किसानों के लिए सरकार ने 2,123 करोड़ रुपये के प्रस्ताव को मंजूरी दी है. इससे 11.9 लाख किसानों को फायदा मिलेगा और सरकार की ओर से उनके लोन का ब्याज माफ कर दिया जाएगा. किसानों के लोन का ब्याज माफ करने का फैसला कैबिनेट ने एक बैठक के दौरान लिया.

इन किसानों का कम कर दिया जाएगा लोन!

यहां क्लिक करके देखिए

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, इस फैसले पर एक अधिकारी ने बताया कि जिन किसानों का लोन और ब्याज जॉइंट रुप से दो लाख रुपये से कम है, उन्हें इस योजना में शामिल किया जाएगा. बता दें कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पिछले साल घोषणा की थी कि राज्य सरकार उन किसानों के एग्रीकल्चर लोन पर लागू ब्याज बैंकों में जमा करेगी, जिन्होंने पिछली कांग्रेस सरकार के वादे के कारण अपना लोन नहीं चुकाया था. loan waiver

किसानों को सरकार ने दिया बड़ा तोहफा

अधिकारी ने जानकारी दी है कि कैबिनेट ने सहकारी बैंकों और समितियों से लिए गए लोन पर किसानों के लिए ब्याज का भुगतान करने के लिए 2,123 करोड़ रुपये की राशि के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. सरकार के इस फैसले के बाद से अब किसानों को ब्याज का भुगतान नहीं करना होगा.

इतना कर्ज होगा माफ

loan waiver मुख्यमंत्री चौहान ने पहले आरोप लगाया था कि पिछली कांग्रेस सरकार की ओर से लोन माफी के वादे के कारण कई किसान एग्रीकल्चर लोन नहीं चुका पाए थे. उन्होंने कांग्रेस पर लोन माफी के वादे को पूरा नहीं करने का आरोप लगाया जिसके कारण किसानों ने कर्ज नहीं चुकाया. दूसरी ओर, कांग्रेस ने दावा किया है कि उसकी सरकार के दौरान राज्य के लगभग 24 लाख किसानों को कृषि ऋण माफी योजना का लाभ मिला था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *